पर्व है पुरुषा

पर्व है पुरुषार्थ का, दीप के दिव्यार्थ का,
देहरी पर दीप जगमग एक जलता रहे,
अंधकार से निरंतर युद्ध यह चलता रहे!{ॐ}